Public Provident Fund -PPF

 सार्वजनिक भविष्य निधि
(Public Provident Fund -PPF)

भारत में बचत-सह-कर-बचत साधन है, जो 1968 में वित्त मंत्रालय के राष्ट्रीय बचत संस्थान द्वारा पेश किया गया था। इस योजना का उद्देश्य आयकर लाभों के साथ संयुक्त रूप से उचित रिटर्न के साथ निवेश की पेशकश करके छोटी बचत जुटाना है। इस योजना की पूरी गारंटी केंद्र सरकार द्वारा दी गई है। पीपीएफ खाते में शेष राशि किसी भी आदेश या न्यायालय के फरमान के तहत कुर्की के अधीन नहीं है। हालांकि, आयकर और अन्य सरकारी अधिकारी कर बकाया वसूली के लिए खाते को कुर्क कर सकते हैं।

सरकार ने सरकारी बचत संवर्धन अधिनियम, 1873 के तहत Public Provident Fund Scheme, 1968 को बदलने के लिए नए PPF नियम या सार्वजनिक भविष्य निधि योजना, 2019 को अधिसूचित किया है। 
PPF के नए नियम 12.12.2019 से प्रभावी हैं।
<img src="ppf.jpg" alt="ppf public provident fund epfo"/>

खातों की संख्या की सीमाएं।
(1) कोई व्यक्ति PPF फॉर्म में आवेदन कर खाता खोल सकता है।

(2) एक व्यक्ति प्रत्येक नाबालिग या अस्वस्थ मन के व्यक्ति की ओर से एक खाता भी खोल सकता है जिसके बारे में वह अभिभावक है| बशर्ते किसी भी अभिभावक द्वारा नाबालिग या अस्वस्थ मन के व्यक्ति के नाम पर केवल एक खाता खोला जाएगा।

(3) इस योजना के तहत संयुक्त खाता नहीं खोला जाएगा।

 सदस्यता की सीमाएं
(1) एक जमा जो पांच सौ रुपये से कम नहीं होगा और पचास रुपये के बहुभावन में एक लाख पचास हजार रुपये से अधिक नहीं होगा, एक वर्ष में खाते में किया जा सकता है।

(2) किसी व्यक्ति द्वारा एक लाख पचास हजार रुपये की अधिकतम सीमा उसके अपने खाते में की गई जमा राशि और नाबालिग की ओर से खोले गए खाते में शामिल होगी।

 जमा करने का तरीका 
(1) खाता न्यूनतम प्रारंभिक जमा पांच सौ रुपये(500) के साथ खोला जाएगा और उसके बाद पचास रुपये (50)के गुणकों में किसी भी राशि का जमा किया जाएगा।

(2) एक लाख पचास हजार रुपये(150000) की अधिकतम सीमा  के अधीन खाते में जमा राशि खाते में एक मुश्त या किस्तों में बनाई जाए।

 खाते का विच्छेदन (DISCONTINUATION)
 (1) जिस खाते में खाताधारक ने शुरुआती वर्ष में पांच सौ रुपये जमा किए हैं, वह अगले वर्षों में न्यूनतम राशि जमा करने में विफल रहता है, उसे बंद माना जाएगा।

(2) बंद किए गए खाते को अपनी परिपक्वता अवधि के दौरान पुनर्जीवित किया जा सकता है, साथ ही डिफ़ॉल्ट के प्रत्येक वर्ष के लिए न्यूनतम जमा पांच सौ रुपये के बकाया के साथ-साथ पचास रुपये शुल्क के भुगतान पर पुनर्जीवित किया जा सकता है|

(3) बंद किए गए खाते का खाताधारक परिपक्वता के बाद ऐसे बंद किए गए खाते को बंद करने से पहले नया खाता खोलने के लिए पात्र नहीं होगा|

(4) इस योजना के प्रावधानों के अनुसार ही नियमित खातों में ऋण और आंशिक निकासी की सुविधा दी जाएगी।

(5) पिछले वर्षों के डिफ़ॉल्ट के वर्षों के संबंध में किए गए जमा ओं को शामिल किया जाएगा, लेकिन डिफ़ॉल्ट शुल्क को छोड़कर।

 ब्याज(INTEREST) 
(1) ब्याज 7.9 प्रतिशत पर। प्रति वर्ष पांचवें दिन के अंत और महीने के अंत के बीच खाते के क्रेडिट पर सबसे कम शेष राशि पर कैलेंडर महीने के लिए पात्र होगा।

(2) प्रत्येक वर्ष के अंत में ब्याज खाते में जमा किया जाएगा।

(3) वर्ष के अंत में खाते के हस्तांतरण के कारण खाता कार्यालय में परिवर्तन किए बिना ब्याज वर्ष के अंत में जमा किया जाएगा।

ऋण(LOAN Against PPF)
(1) वर्ष के अंत से एक वर्ष की समाप्ति के बाद किसी भी समय, जिसमें प्रारंभिक सदस्यता दी गई थी, लेकिन वर्ष के अंत से पांच साल की समाप्ति से पहले, जिसमें प्रारंभिक सदस्यता दी गई थी, खाताधारक, फॉर्म में आवेदन कर सकता है, जिसमें पूर्ण रुपये की राशि पच्चीस प्रतिशत से अधिक नहीं है। दूसरे वर्ष के अंत में अपने क्रेडिट के लिए खड़ा था कि राशि में से तुरंत वर्ष जिसमें ऋण के लिए लागू किया जाता है पूर्ववर्ती

(2) नाबालिग या अस्वस्थ मन के व्यक्ति की ओर से खोले गए खाते के मामले में अभिभावक लेखा कार्यालय में निम्नलिखित प्रमाण पत्र जमा करके नाबालिग या अस्वस्थ मन के व्यक्ति के लाभ के लिए ऋण के लिए आवेदन कर सकता है।

"प्रमाणित है कि वापस लेने के लिए मांगी गई राशि श्री/श्रीमती/मास्टर/कुमारी के उपयोग और कल्याण के लिए आवश्यक है... ...... जो एक नाबालिग/अस्वस्थ मन का व्यक्ति है/एक व्यक्ति शारीरिक दुर्बलता के कारण अपने खाते का संचालन करने में असमर्थ है और इस पर जीवित है...... के दिन.............. (माह), ..........(वर्ष)."

3) एक खाताधारक नए सिरे से ऋण प्राप्त करने का हकदार नहीं होगा जब तक कि पहले ऋण उस पर ब्याज के साथ पूर्ण रूप से नहीं चुकाया गया है।

(4) एक खाताधारक एक वर्ष में केवल एक ऋण के लिए हकदार होगा।

ऋण और ब्याज की अदायगी(LOAN AND INTEREST PAYMENT)
(1) ऋण स्वीकृत होने के बाद महीने के पहले दिन से छत्तीस महीने (36)की समाप्ति से पहले खाताधारक द्वारा ऋण की मूल राशि चुकाई जाएगी|

(2) ऋण की मूल राशि पूरी तरह से चुकाए जाने के बाद खाताधारक एक प्रतिशत की दर से दो मासिक किस्तों से अधिक नहीं होने पर उस पर ब्याज का भुगतान करेगा। महीने के पहले दिन से शुरू होने वाली अवधि के लिए मूलधन का प्रति वर्ष जिस महीने के अंतिम दिन ऋण चुकाया जाता है|

(3)बकाया ऋण की राशि और देय ब्याज के किसी भी हिस्से पर ब्याज, लेकिन किसी भी ऋण पर भुगतान नहीं किया गया, जिसकी मूल राशि पहले ही छत्तीस महीने की अवधि के भीतर चुकाई जा चुकी है, देय होने पर धारक के खाते में डेबिट किया जा सकता है

(4) बकाया ऋणों पर ब्याज जो छत्तीस महीने की समाप्ति से पहले भुगतान नहीं किया जाता है या आंशिक रूप से भुगतान किया जाता है, प्रत्येक वर्ष के अंत में धारक के खाते में डेबिट किया जाएगा

(5) खाताधारक की मृत्यु होने पर नामित व्यक्ति या कानूनी वारिस खाताधारक द्वारा प्राप्त ऋण पर ब्याज का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा लेकिन उसकी मृत्यु से पहले चुकाया नहीं जाएगा। खाते को अंतिम रूप से बंद करने के समय उचित ब्याज की ऐसी राशि समायोजित की जाएगी।

खाते से निकासी(WITHDRAWAL)
(1) जिस वर्ष खाता खोला गया था, उसके अंत से पांच वर्ष की समाप्ति के बाद कोई भी समय खाताधारक फॉर्म-2 में आवेदन करके, शेष से अपने क्रेडिट तक, पचास प्रतिशत से अधिक राशि नहीं हो सकती है। राशि है कि चौथे वर्ष के अंत में अपने क्रेडिट करने के लिए खड़ा था तुरंत वापसी के वर्ष से पहले या पिछले वर्ष के अंत में, जो भी कम है|

2) नाबालिग की ओर से खोले गए खाते या अस्वस्थ मन के व्यक्ति के मामले में, अभिभावक लेखा कार्यालय में निम्नलिखित प्रमाण पत्र जमा करके नाबालिग या अस्वस्थ मन के व्यक्ति के लाभ के लिए निकासी के लिए आवेदन कर सकता है, अर्थात्:-

"प्रमाणित है कि वापस लेने के लिए मांगी गई राशि श्री/श्रीमती/मास्टर/कुमारी के उपयोग और कल्याण के लिए आवश्यक है... ...... जो एक नाबालिग/अस्वस्थ मन का व्यक्ति है/एक व्यक्ति शारीरिक दुर्बलता के कारण अपने खाते का संचालन करने में असमर्थ है और इस पर जीवित है...... के दिन.............. (माह), ..........(वर्ष)."

 मैच्योरिटी के बाद बिना जमा किए खाता बंद करना या जारी रखना(PPF MATURITY)
 (1) जिस साल में खाता खोला गया था, उसके बाद से पंद्रह साल(15YR) की एक्सपायरी के बाद कोई भी समय खाताधारक अपने खाते को बंद करने के लिए फॉर्म-3 में अकाउंट ऑफिस में आवेदन कर सकता है। लेखा कार्यालय उस महीने के अंतिम दिन तक उचित ब्याज के साथ पूरी शेष राशि की निकासी की अनुमति देगा जिसमें खाता बंद है।

(2) खाताधारक किसी भी अवधि के लिए आगे जमा किए बिना परिपक्वता के बाद अपना खाता बरकरार रख सकता है और खाते में शेष राशि योजना पर लागू दर पर ब्याज अर्जित करना जारी रखेगा| बशर्ते कि खाताधारक प्रत्येक वर्ष में शेष राशि के भीतर किसी भी राशि की एक निकासी कर सके।

(3) एक साल से अधिक समय तक बिना जमा किए खाता जारी रहने के बाद खाताधारक के पास जमा राशि के साथ खाता जारी रखने का विकल्प फिर से नहीं होगा।

परिपक्वता के बाद जमा के साथ खाते का विस्तार(EXTENSION AFTER MATURITY) 
 (1) , जिस वर्ष खाता खोला गया था, उसके अंत से पंद्रह वर्ष की समाप्ति पर खाताधारक अपना खाता बढ़ा सकता है और फॉर्म में कार्यालय में आवेदन करके पांच वर्ष की आगे ब्लॉक अवधि के तहत जमा करना जारी रख सकता है

(2) खाते के विस्तार का विकल्प खाताधारक द्वारा खाते की परिपक्वता से एक वर्ष की समाप्ति से पहले किया जाएगा|

(3) यदि खाताधारक परिपक्वता की तारीख से एक वर्ष के भीतर खाता जारी रखने का अपना विकल्प देने में विफल रहता है तो खाते में कोई जमा नहीं किया जा सकता है। ऐसे खाते में की गई किसी भी जमा को अनियमित माना जाएगा और लेखा कार्यालय द्वारा बिना किसी ब्याज के तुरंत वापस कर दिया जाएगा|

(4) यदि खाता एक या एक से अधिक पांच ब्लॉक अवधि के लिए जमा के साथ जारी रखा जाता है, तो खाताधारक किसी भी ब्लॉक अवधि को पूरा होने पर जमा किए बिना खाता छोड़ सकता है और खाता बंद होने तक ब्याज अर्जित करता रहेगा और खाताधारक खाते से हर साल एक निकासी कर सकता है।

(5) जिस खाताधारक ने पांच साल की अवधि के लिए खाते के विस्तार के लिए अपना विकल्प दिया है, उसके पास बाद के चरण में अपने अनुरोध को वापस लेने का विकल्प नहीं होगा

खाता समय से पहले बंद करने की अनुमति होगी (ACCOUNT CLOSURE BEFORE TIME)

(1) एक खाताधारक को अपने खाते को समय से पहले बंद करने की अनुमति दी जाएगी या किसी नाबालिग या अस्वस्थ मन के व्यक्ति का खाता, जिसके बारे में किसी भी आधार पर फार्म में कार्यालय में आवेदन पर अभिभावक है, अर्थात्:-

() खाताधारक, उसके पति या पत्नी या आश्रित बच्चों या माता-पिता के जीवन से खतरा रोग का उपचार, सहायक दस्तावेजों और चिकित्सा प्राधिकरण के इलाज से ऐसी बीमारी की पुष्टि करने वाली चिकित्सा रिपोर्टों के उत्पादन पर;

() भारत या विदेश में उच्च शिक्षा के मान्यता प्राप्त संस्थान में प्रवेश की पुष्टि करते हुए खाताधारक की उच्च शिक्षा या दस्तावेजों और शुल्क बिलों के उत्पादन पर निर्भर बच्चे;

() पासपोर्ट और वीजा या आयकर रिटर्न की प्रति के उत्पादन पर खाताधारक की निवास स्थिति में परिवर्तन पर|

बशर्ते कि इस योजना के तहत खाता उस वर्ष के अंत से पांच वर्ष की समाप्ति से पहले बंद नहीं किया जाएगा जिसमें खाता खोला गया था|

बशर्ते कि इस तरह के समय से पहले बंद होने पर खाते में ब्याज की अनुमति उस दर पर दी जाएगी जो एक प्रतिशत तक कम होगी उस दर से जब खाता खोलने की तारीख के बाद से समय-समय पर खाते में ब्याज जमा किया जाता रहा है, या खाता बढ़ाने की तारीख, जैसा कि मामला हो सकता है।

खाताधारक की मृत्यु पर खाता बंद करना(DEATH OF PPF ACCOUNT HOLDER)
(1) खाताधारक की मृत्यु होने की स्थिति में खाता बंद कर दिया जाएगा और नामित व्यक्ति या कानूनी वारिस को खाता जारी रखने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

(2) मृतक खाताधारक के खाते में शेष राशि उस महीने के अंत तक ब्याज अर्जित करेगी जिसमें पात्र शेष राशि का भुगतान नामांकित व्यक्ति या कानूनी वारिस को किया जाता है, जैसा कि मामला हो सकता है

 कुर्की से ऋण शेष का संरक्षण(Protection of credit balance) - किसी भी खाताधारक के ऋण के लिए बकाया राशि खाताधारक द्वारा किए गए किसी भी ऋण या देयता के संबंध में किसी भी न्यायालय के आदेश या डिक्री के तहत कुर्की के लिए उत्तरदायी नहीं होगी।



No comments:

Post a Comment

Enter your comment here

How To Open A Bank Account In India